चीन में मोदी: BRICS सम्मेलन में पाकिस्तान बेनकाब, घोषणापत्र में जैश और लश्कर का जिक्र

0
141
PM MODI BRICS

नई दिल्ली:  चीन में चल रहे BRICS सम्मेलन से बड़ी बात निकल कर सामने आई है। BRICS सम्मेलन में पहली बार पाकिस्तान बेनकाब हुआ है। सम्मेलन जारी घोषणापत्र में कहा गय है कि आतंकवाद को रोकने के लिए BRICS देशों को एक साथ काम कोशिश करनी होगी। घोषणापत्र में इस बात का भी जिक्र है कि आतंकी फंडिंग को बंद किया जाना चाहिए। घोषणापत्र में 16 बार आतंकवाद का जिक्र किया गया है।

BRICS सम्मेलन में पहली बार पाकिस्तान में पल बढ़ रहे आतंकी संगठन जैश ए मोहम्मद और लश्कर ए तोयबा का जिक्र किया गया। घोषणापत्र में साफ तौर ये बताया गया कि जैश और लश्कर पाकिस्तान में पल बढ़ रहे हैं और भारत में आतंकवाद को बढ़ावा दे रहे हैं।

घोषणापत्र में इस तरह से साफ तौर पर पाकिस्तान समर्थित आतंकी संगठनों का जिक्र होने के बाद पाकिस्तान के साथ साथ चीन के लिए भी झटका माना जा रहा है। क्योंकि चीन ये चाहता था कि BRICS सम्मेलन में पाकिस्तन के खिलाफ आतंकवा का मुद्दा नहीं उठाए। लेकिन BRICS देशों की तरफ से जो घोषणापत्र सामने आया उसमें आतंकवाद की कड़ी निंदा की गई साथ ही पाकिस्तान के आतंकी संगठन लश्कर ए तोयबा और जेश ए मोहम्मद और हक्कानी नेटवर्क का जिक्र किया गया है।

इससे पहले तक चीन कई बार जैश ए मोहम्मद के सरगना मसूद अजहर पर यूएन की तरफ से प्रतिबंध लगाए जानने की कोशिशों को रोकने के लिए अपने वीटो पावर का इस्तेमाल कर चुका है। अब देखने वाली बात ये होगी कि आतंकी के खिलाफ हुई इस नए प्रगति के बाद चीन संयुक्त राष्ट्र संघ में मसूद अजहर को लेकर क्या रुख अपनाता है।

BRICS में जारी घोषणापत्र  कहा गया है कि हम BRICS देशों समेत दुनियाभर में हुए आतंकी हमले की निंदा करते हैं। चाहे वो कहीं हुआ हो और किसी ने भी उसे अंजाम दिया हो। हम क्षेत्र में सुरक्षा के हालात और तालिबान, आईएसआईएस, अलकायदा और उसके सहयोगी, हक्कानी नेटवर्क, लश्कर ए तोयबा, जैश ए मोहम्मद, तहरीक ए तालिबान पाकिस्तान और हिज्ब उत ताहिर द्वारा फैलायी हिंसा का विरोध करते हैं। विदेश मंत्रालय की सचिव प्रीति सरन ने प्रेस कांफ्रेंस कर इसकी जानकारी दी।

Loading...

LEAVE A REPLY